Monday, 13 February 2012

मुहब्बतों से भरा वो जहाँ छोड़ आये

अपने     पीछे   यादों    के      निशां       छोड़   आये,
मुहब्बतों   से    भरा    वो       जहाँ   छोड़        आये |

मंजिल   पर    आकर   देखा  जो   सामान   -ए -सफ़र,
हर   चीज़       थी,    दिले      नादाँ      छोड़      आये|

जिसने    बदल     दिया    उनवान       ज़िन्दगी      का,
वो           हमनशीं,           मेहरबां      छोड़       आये|

वादियाँ  कोहसार , दश्त-ये पराश  , खूबसूरत  आबशार,
शाम        सुहानी,   सुबह     ,बहारां       छोड़     आये|


क्या    बताऊँ       दोस्तों  क्या  -क्या       छोड़    आये|
तस्कीन    -ए- दिल,       राहत   -ए-   जां,   छोड़  आये,

रौनक    थी जिनके दम से  बज्म-ए-हस्ती में   "क़सीम"
वो नूर   -ए-मुज्जसम , हुस्न     -ए- जाना   छोड़  आये.





1 comment: